कौन हैं Nepal के Dipendra Singh Airee

नेपाल के विध्वंसक बल्लेबाज दीपेंद्र सिंह एरी उर्फ़ टाइगर ने एक बार फिर टी20 क्रिकेट में कोहराम मचाया है। कतर के खिलाफ एसीसी प्रीमियर कप के 7वें मैच में दीपेंद्र ने 6 गेंद में 6 सिक्स लगाकर इतिहास रच दिया। दीपेंद्र ने यह कारनामा नेपाल की पारी के अंतिम ओवर में किया जब कतर के लिए कामरान खान गेंदबाजी करने आए। दीपेंद्र ने नेपाल के लिए 5वें नंबर पर बैटिंग करते हुए 21 गेंद में 64 रन बनाकर नाबाद रहे हैं।

नेपाल के विस्फोटक बल्लेबाज दीपेंद्र सिंह ऐरी (Dipendra Singh Airee) शनिवार को कतर के खिलाफ एक ओवर में छह छक्के जड़कर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में ऐसा करने वाले पांचवें बल्लेबाज बन गए. दीपेंद्र ने मैच की पहली पारी के आखिरी ओवर में कामरान खान के खिलाफ यह कारनामा किया. दीपेंद्र ने अपनी नाबाद पारी में मात्र 21 गेंद पर तीन चौकों और सात छक्कों के साथ 64 रन बनाए और नेपाल को 210/7 के स्कोर तक पहुंचाया. कतर के पास इस विशाल स्कोर का कोई जवाब नहीं था और वह 20 ओवर में 178 रन ही बना सकी.

कौन हैं दीपेंद्र सिंह ऐरी
24 साल के दीपेंद्र सिंह ऐरी नेपाल क्रिकेट के चढ़ते हुए सूरजों में से एक हैं. नेपाल के सुदूरपश्चिम (Sudurpashchim) प्रांत की छोटी सी नगरपालिका डडेल्धुरा के रहने वाले दीपेंद्र ने मात्र 17 साल की उम्र में नेपाल के लिए वनडे डेब्यू कर लिया था. उन्होंने 2017 में एसीसी अंडर-19 एशिया कप में नेपाल की कप्तानी भी की थी.

इस टूर्नामेंट में ऐरी का सबसे यादगार प्रदर्शन भारत के खिलाफ ग्रुप-ए मैच में आया था जहां उन्होंने बल्ले से 88 रन ठोकने के बाद चार विकेट भी चटकाए थे. डिफेंडिंग चैंपियन भारत 186 रन का पीछा करते हुए एक विकेट के नुकसान पर 91 रन बना चुका था जब दीपेंद्र ने गेंदबाजी का मोर्चा संभाला. उनकी करामाती गेंदबाजी की बदौलत नेपाल ने भारत को 166 रन पर ऑलआउट कर बड़े उलटफेर को अंजाम दिया था.

पहले भी कर चुके हैं ऐसी ही आतिशबाजी
ऐसा पहली बार नहीं है कि अपने ताबड़तोड़ अंदाज के लिए मशहूर दीपेंद्र ने छह गेंदों पर छह छक्के जड़े हों. पिछले साल चीन के हांग्झोउ में खेले गए एशियन गेम्स (Hangzhou Asian Games 2022) में दीपेंद्र ने मंगोलिया के खिलाफ छह गेंद पर छह छक्के जड़े थे. उस समय हालांकि उन्होंने यह काम दो अलग-अलग ओवरों में किया था. दीपेंद्र (10 गेंद, 52 रन) ने उस मैच में नौ गेंदों पर अर्द्धशतक पूरा कर सबसे तेज टी20 फिफ्टी बनाने का रिकॉर्ड अपने नाम किया था.

इसके अलावा नेपाल के 19 वर्षीय युवा प्रतिभावान बल्लेबाज कुशाल मल्ला (Kushal Malla) ने भी 34 गेंद में सैकड़ा जमाकर सबसे तेज टी20 सेंचुरी का रिकॉर्ड अपने नाम किया था. कुशाल, दीपेंद्र और अन्य बल्लेबाजों की आतिशबाजी की बदौलत नेपाल ने मंगोलिया के सामने 314 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया था. यह टी20 क्रिकेट का पहला 300 प्लस स्कोर था. इसके जवाब में मंगोलिया 41 रन पर सिमट गई थी और नेपाल को टी20 क्रिकेट के इतिहास की सबसे बड़ी जीत मिली थी.

उस दिन की तरह इस दिन भी दीपेंद्र अपने विस्फोटक अंदाज में नजर आए. नेपाल 19 ओवर में सात विकेट पर 174 रन बना चुकी थी. दीपेंद्र उस समय खुद 15 गेंद पर 28 रन बनाकर खेल रहे थे. फिर आखिरी ओवर में दीपेंद्र ने ओमान के अल-अमेरात स्टेडियम में मौजूद नेपाल-समर्थकों को एक बेहतरीन यादगार सौंपने का फैसला किया.

उन्होंने कभी स्क्वेयर कट खेलकर तो कभी हेलिकॉप्टर शॉट के जरिए गेंद को मैदान के बाहर पहुंचाया. ओवर की आखिरी गेंद पर दीपेंद्र ने अपना बल्ला मिडविकेट की ओर घुमाया. गेंद उनके बल्ले से लगकर पहले आसमान में खो गई, फिर कुछ देर बाद दर्शक दीर्घा में जा गिरी. कॉमेंट्री बॉक्स में बैठे कमेंटेटर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में छह छक्के जड़ने वाले बल्लेबाजों के नाम लिए और इस लिस्ट में दीपेंद्र का नाम भी शामिल कर दिया.

इन बल्लेबाजों ने भी जड़े हैं एक ओवर में छह छक्के
दीपेंद्र से पहले कुल पांच बल्लेबाज अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में यह कारनामा कर चुके हैं. इनमें सबसे यादगार नाम है युवराज सिंह का. युवराज ने यह कारनामा 2007 टी20 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड के खिलाफ किया था. वह टी20 क्रिकेट में ऐसा करने वाले पहले बल्लेबाज बने थे. युवराज के अलावा वेस्ट इंडीज के कीरन पोलार्ड भी टी20 मैच के एक ओवर में छह छक्के जड़ चुके हैं. पोलार्ड ने यह कीर्तिमान 2021 में श्रीलंका के खिलाफ रचा था.

बात करें वनडे क्रिकेट की तो दक्षिण अफ्रीका के हर्शल गिब्स और अमेरिका के जसकरन सिंह इस प्रारूप में यह कमाल कर चुके हैं. गिब्स ने नीदरलैंड्स के खिलाफ जबकि जसकरन ने पापुआ न्यू गिनिया के खिलाफ एक ओवर में छह छक्के जड़े थे.

Leave a Comment